Typing Krne Se Phle Konsi Setting Kare Computer Laptop Me?

Typing Krne Se Phle Konsi Setting Kare Computer Laptop Me?

Typing Krne Se Phle Konsi Setting Kare Computer Laptop Me? – दोस्तों यदि आप एक स्टूडेंट है और आप कंप्यूटर के अंदर किसी भी प्रकार का टाइपिंग करना चाहते है और आपको पता नहीं है की कंप्यूटर में टाइपिंग करने से पहले हमें कोनसी-कोनसी सेटिंग करना चाहिए जिससे हमें डॉक्यूमेंट बनाने के बाद किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़े तो आइये जाते है –

पेज साइजपेज साइज – कंप्यूटर में डॉक्यूमेंट बनाने से पहले आपको एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के अंदर पेज साइज को सेट करना चाहिए आप डॉक्यूमेंट किस पेज साइज में बनाना चाहते है जैसे A4, A3, A5, Letter, Legal आदि आप जिस साइज में डॉक्यूमेंट तैयार करे उसे पहले सेट कर ले जिससे डॉक्यूमेंट पेज में टाइप करने के बाद आपको पेज सेटअप करने की कोई जरुरत नहीं पड़ेगी और आपका टाइप डॉक्यूमेंट डिस्टर्ब नहीं होगा अगर आप डॉक्यूमेंट टाइप करने से पहले पेज सेटअप नहीं करते है तो आपको बाद में पेज सेटअप करने में परेशानी आएगी और आपका समय भी काफी खर्च होगा।

पोर्ट्रेट एंड लैंडस्केप पोर्ट्रेट एंड लैंडस्केप  – डॉक्यूमेंट में टाइप करने से पहले आपको यह भी तय करना है की मेरा डॉक्यूमेंट किस ओरिएंटेशन में रहेगा जो में कंटेंट टाइप कर रहा हूँ उस कंटेंट की चौड़ाई ज्यादा है रखना है या लम्बाई ज्यादा है रखना है अगर चौड़ाई ज्यादा रखें है पेज की तो पेज सेटअप में लैंडस्केप फंक्शन को सेलेक्ट करे और वहीं अगर पेज की लम्बाई ज्यादा रखना है तो पेज सेटअप में पोर्ट्रेट फंक्शन को सेलेक्ट करे।

पेज मार्जिनपेज मार्जिन – डॉक्यूमेंट टाइप करने से पहले मार्जिन को भी सेट करे आप पेज की चारो और कितना मार्जिन छोड़ना चाहते है जैसे पेज़ के लेफ्ट में कितना स्पेस हो , राइट में कितना स्पेस, पेज के टॉप पर कितना स्पेस हो , पेज के नीचे कितना स्पेस हो अगर आप इन स्पेस को ध्यान में रखकर पेज के अंदर टाइप करेगें तो बाद में आपको पेज में हैडर & फुटर डालने में कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा क्योंकि आपने डॉक्मेंट टाइप करने से पहले हैडर फुटर का मार्जिन सेट कर लिया है और जब आप पेज को किसी कवर में सेट करेगें या उसकी बुक / किताब बनायेगें तो फोल्ड करने का मार्जिन भी आपको मिल जायेगा जिससे आपको पेज को बाद में सेट करने की कोई जरुरत नहीं पड़ेगी।

फॉण्टफॉण्ट – डॉक्यूमेंट टाइप करने से पहले आपको फॉण्ट का भी ध्यान रखना है आप कंप्यूटर के अंदर किस फॉण्ट में टाइप करना चाहते है आप इंलिश फॉण्ट में टाइप करना चाहते या हिंदी फॉण्ट में टाइप करना चाहते है यह सेलेक्ट कर ले

दोस्तों क्या होता है की हिंदी शब्दों के जो फॉण्ट होते है उन फॉण्ट में कुछ न कुछ शब्द हिंदी के नहीं बनते है जिससे आपको बाद में फॉण्ट को बदलना पड़ता है जिसकी वजह से पेज के कुछ और शब्द चेंज हो जाते है आप ज्यादातर पॉपुलर फॉण्ट ही टाइपिंग करने के लिए उपयोग करे जैसे कृतिदेव, अब्बास, एरिअल आदि।

फॉण्ट साइज – टाइप करने से पहले फॉण्ट के साइज को भी ध्यान रखे आपका फॉण्ट किस साइज में होना चाहिए जैसे 12 , 14 , 16 आप जिस फॉण्ट साइज में अपना कंटेंट रखना चाहते उसका पहले सेट करले जिससे आपको बाद में कोई प्रॉब्लम नहीं हो वैसे दोस्तों आप टाइप करने  बाद भी फॉण्ट का साइज बदल सकते है यह सब आप पर निर्भर करता है।

” ध्यान दें – आप ऊपर दी गई सेटिंग को डॉक्यूमेंट टाइप करने के बाद में यूज़ कर सकते है और अपने डॉक्यूमेंट पेज को सेट कर सकते है लेकिन बाद में इन फंक्शन का यूज़ करना से डॉक्यूमेंट में लिखा मेटर काफी डिस्टर्ब हो  जाता है और जिसकी वजह से आपका टाइम भी बहुत ख़राब होता है अब आपको कंप्यूटर में डॉक्यूमेंट टाइप करने से पहले यह सेटिंग करना है या नहीं यह आप पर निर्भर करता है। “

Spread the love

Leave a Reply