KEYWORD DENSITY क्या है ? [SEO]

KEYWORD DENSITY

दोस्तों यदि आप एक स्टूडेंट है और Digital Marketing का कोर्स कर रहे है तो आपने SEO [SEARCH ENGINE OPTIMIZATION] के अंदर KEYWORD DENSITY का नाम तो सुना होगा तो आपने कभी-भी KEYWORD DENSITY के बारे में जानने की कोशिश की है कि KEYWORD DENSITY क्या है ? जब हम वेबसाइट या ब्लॉग पर किसी पोस्ट को पब्लिश करे तो इसका ध्यान क्यों रखना चाहिये.


नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे है कि KEYWORD DENSITY क्या है ? किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO [SEARCH ENGINE OPTIMIZATION] करते समय KEYWORD DENSITY क्यों ध्यान में रखना चाहिये हमारे वेबसाइट या ब्लॉग पोस्ट की KEYWORD DENSITY कितनी होनी चाहिए तो आज हम केवल KEYWORD DENSITY से सम्बंधित बातों पर चर्चा करेगें और इससे सम्बंधित बहुत सी बातें जानेगें।

 

Keyword Stuffing क्या है ?
SEO LATEST TECHNIQUE [HINDI]
search.google.com

KEYWORD DENSITY क्या है ?

 

दोस्तों जब कोई ब्लॉगर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग में कोई आर्टिकल/पोस्ट लिखता है तो वो आर्टिकल/पोस्ट के कंटेंट का कोई एक टाइटल और एक Focus Keyword जरूर होता है जो उस आर्टिकल/पोस्ट के कंटेंट को प्रेजेंट करता है तो दोस्तों इस आर्टिकल/पोस्ट के Focus Keyword को हम कंटेंट में जरुरत के अनुसार ज्यादा बार लिख दिया है जैसे एक आर्टिकल/पोस्ट का कंटेंट 500 शब्दों का है और आपने इन 500 शब्दों के कंटेंट में 50 बार Focus Keyword को लिख दिया है तो आपकी KEYWORD DENSITY 10 % प्रतिशत होगी और यदि इन 500 शब्दों में 25 बार Focus Keyword लिखा है तो आपके आर्टिकल या पोस्ट के कंटेंट की KEYWORD DENSITY 25 % होगी।

दोस्तों KEYWORD DENSITY की माप Focus Keyword से होती है आप अपने आर्टिकल/पोस्ट में Focus Keyword जितनी बार-बार लिखोगे आपके पोस्ट/आर्टिकल की KEYWORD DENSITY बढ़ती जायेगी-

 

उदहारण – दोस्तों आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट में कंप्यूटर से सम्बंधित पोस्ट /आर्टिकल लिख रहे हो और आपके पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट का टाइटल है “Computer क्या है और कंप्यूटर कैसे सीखें ” तो दोस्तों टाइटल के अंदर Focus Keyword है  “Computer क्या है” तो दोस्तों आप अपने पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट ” Focus Keyword है  “Computer क्या है” आपने जितनी बार “Computer क्या है” यह लिखा है तो आपके आर्टिकल/पोस्ट के कंटेंट की KEYWORD DENSITY उतनी होगी। 

 

KEYWORD DENSITY क्या है ? [SEO]

 

हमारे पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में KEYWORD DENSITY कितनी होनी चाहिये ?

दोस्तों वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में KEYWORD DENSITY उस पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट के आधार पर होनी चाहिये जैस आपने अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में 1000 शब्द लिखे है तो इस 1000 शब्दों में KEYWORD DENSITY 2% या 3% परसेंट होनी चाहिये यानि 1000 शब्दों की बीच ” Focus Keyword है  ” चार या पांच लिखा जाये।

 

KEYWORD DENSITY

 

वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल लिखते समय KEYWORD DENSITY ध्यान क्यों रखना चाहिये ?

दोस्तों जब हम अपने वेबसाइट या ब्लॉग में पोस्ट/आर्टिकल लिखते है तो हमें पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में KEYWORD DENSITY का विशेष ध्यान रखना चाहिये यदि हम अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY का ध्यान नहीं रखते है और गलती से KEYWORD DENSITY ज्यादा करते देते है यानि KEYWORD Stuffing करते देते है तो यह गूगल इंटरनेट सर्च इंजन की Guideline के विरुद्ध है यदि कोई वेबसाइट या ब्लॉग KEYWORD Stuffing कर देता है तो गूगल उस वेबसाइट या ब्लॉग पर पेनल्टी लगा देता है जिससे उसकी वेबसाइट या ब्लॉग गूगल के सर्च इंजन की रैंकिंग में गिर जाती है और गूगल का सर्च इंजन उस पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट अपने सर्च इंजन में रैंक नहीं करता है। 

 

#ध्यान दें – दोस्तों जब वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में KEYWORD DENSITY अधिक होती है तब KEYWORD DENSITY ही KEYWORD Stuffing का रूप ले लेती है कहने का मतलब पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होगी तो उसे KEYWORD Stuffing कहा जायेगा।#

 

पोस्ट/आर्टिकल के कंटेंट में KEYWORD DENSITY ज्यादा होना एक Black Hat SEO [SEARCH ENGINE OPTIMIZATION] की Technique को दर्शाता है क्या ?

दोस्तों जब कोई ब्लॉगर अपनी पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा करता है तो यह गूगल इंटरनेट सर्च इंजन के Guideline और नियम के विरुद्ध है और कोई भी इस तरह की एक्टिविटी गूगल इंटरनेट सर्च इंजन के Guideline और नियम के विरुद्ध आती है तो आप समझों यह Black Hat SEO की एक Technique और यदि कोई ब्लॉगर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर Black Hat SEO Technique का Use करता है तो गूगल का इंटरनेट सर्च इंजन उस वेबसाइट या ब्लॉग को रैंकिंग गिरा देती है। 

 

वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होती है तो यह इससे वेबसाइट या ब्लॉग को क्या-क्या हानि हो सकती है ?

 

  • वेबसाइट या ब्लॉग के पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होती है तो यह एक Black Hat SEO Technique है 
  • पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होने से गूगल उस पोस्ट/आर्टिकल को अपने सर्च इंजन में कभी-भी रैंक नहीं करेगी।
  • पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होने से गूगल का सर्च इंजन उस पोस्ट/आर्टिकल की रैंकिंग को हमेशा के लिए गिरा सकता है। 
  • पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होने से वेबसाइट या ब्लॉग की वैल्यू गूगल इंजन के नजर में गिर जाती है.
  • पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होने से आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का White Hat Seo काफी प्रभावित हो सकता है। 
  • पोस्ट/आर्टिकल में KEYWORD DENSITY ज्यादा होने से आपकी वेबसाइट या ब्लॉग पर गूगल सर्च इंजन से आने वाला ट्रैफिक कम हो सकता है और आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की Quality भी गिर सकती है। 

 

# ध्यान दें – दोस्तों यदि आप  KEYWORD DENSITY क्या है ? वेबसाइट या ब्लॉग का SEO करते समय KEYWORD DENSITY क्यों ध्यान में रखना चाहिये और आर्टिकल पोस्ट की KEYWORD DENSITY कितनी होनी चाहिए अब भी आप नहीं समझें हो तो दोस्तों इसमें कोई चिंता करने की बात नहीं है हमने KEYWORD DENSITY से सम्बंधित एक वीडियो बना दिया है आप इस वीडियो को शुरु से लेकर अंत तक जरूर देखे आप KEYWORD DENSITY को और अच्छे से जान सकते है। #

 

 

आशा करते है कि KEYWORD DENSITY क्या है ? किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO [SEARCH ENGINE OPTIMIZATION] करते समय KEYWORD DENSITY क्यों ध्यान में रखना चाहिये हमारे वेबसाइट या ब्लॉग पोस्ट की KEYWORD DENSITY कितनी होनी चाहिए और इससे वेबसाइट या ब्लॉग को क्या-क्या नुकसान हो सकते है और KEYWORD DENSITY से सम्बंधित जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और यह जानकारी आपके लिए काफी उपयोगी साबित हुई होगी तो आप इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग पर विजिट करते रहिये।