कंप्यूटर में वायरस आने से कंप्यूटर पर क्या प्रभाव पड़ता है [Computer Virus Effect]

कंप्यूटर में वायरस आने से कंप्यूटर पर क्या प्रभाव पड़ता है [Computer Virus Effect]

Spread the love

दोस्तों यदि आप एक स्टूडेंट है और आपके पढ़ाई के सब्जेक्ट में एक कंप्यूटर का भी सब्जेक्ट जुड़ा है तो आपसे कभी ना कभी कंप्यूटर सम्बंधित परीक्षा पेपर में एक प्रश्न जरूर पूछा गया होगा या फिर भविष्य में पूछा जा सकता है कि कंप्यूटर में वायरस आने से कंप्यूटर पर क्या प्रभाव पड़ता है.


नमस्कार दोस्तों आज  आपको बताने जा रहे है कि कंप्यूटर में वायरस आने से कंप्यूटर पर क्या प्रभाव पड़ता है तो आज हम केवल कंप्यूटर में वायरस प्रभाव के बारे में आपको बतायेगें।

 

Internet से होने वाली हानि नुकसान कौनसे-कौनसे है [Internet Loss In Hindi] ?
computer virus symptoms [कंप्यूटर लैपटॉप में वायरस के लक्षण]
हमारे साथ instagram पर जुड़िये।

 

 

दोस्तों कंप्यूटर के अंदर वायरस आना एक आम बात है हम कंप्यूटर को कितना भी सुरक्षित रख ले फिर भी हमारा कंप्यूटर किसी ना किसी वजह से वायरस की चपेट में आ जाता है जिसकी वजह से हमें कंप्यूटर पर काम करते समय काफी समस्या का सामना करना पड़ता है और हमारा कंप्यूटर वायरस की वजह से काफी प्रभावित होता है –

कंप्यूटर चालू होने की प्रक्रिया धीमी – दोस्तों जब कंप्यूटर में वायरस आ जाता है तो कंप्यूटर में इसका पहला प्रभाव पड़ता है कि जब आप अपने कंप्यूटर का पावर बटन दबायेगें तो कंप्यूटर चालू होने में 5 या 10 मिनट लगता है.

 

कंप्यूटर चलने और उस पर काम करने की धीमी स्पीड – जब कंप्यूटर के अंदर वायरस आता है तो उसका दूसरा प्रभाव यह पड़ता है कि कंप्यूटर में किसी भी प्रोग्राम सॉफ्टवेयर खोलने में कंप्यूटर बहुत समय लगाता है कंप्यूटर में कॉपी पास्ट की प्रोसेस बहुत धीमी हो जाती है जिसके वजह से आपके कंप्यूटर में होने वाले काम की स्पीड काफी कम हो जाती है।

 

कंप्यूटर हैंग होना – कंप्यूटर में वायरस आने का तीसरा प्रभाव कप्यूटर पर यह पड़ता है की जब हम कंप्यूटर पर काम कर रहे होते है तो कंप्यूटर बार-बार हैंग होता है जैसे-हमने कंप्यूटर अंदर कोई प्रोग्राम पर क्लिक किया तो क्लिक करने के बाद कंप्यूटर की स्क्रीन चुपकर रह जाती है , जब हम कंप्यूटर के अंदर कुछ टाइप कर रहे है तो टाइप होने में कर्सर काफी समय लगा रहा है।

 

सॉफ्टवेयर इंस्टाल और अनइंस्टाल ना हुआ – कंप्यूटर में वायरस आने का चौथा प्रभाव यह कि जब आप कंप्यूटर के अंदर कोई सॉफ्टवेयर इनस्टॉल करेगें तो कंप्यूटर के अंदर सॉफ्टवेयर इनस्टॉल नहीं होगा और जब आप कंप्यूटर के अंदर सॉफ्टवेयर अनइंस्टाल करेगें तो सॉफ्टवेयर अनइंस्टाल भी नहीं होगा.

 

डौन्लोडिंग ना होना – जब आपके कंप्यूटर में वायरस होता है तो आप जब इंटरनेट से कोई वीडियो , ऑडियो, सॉफ्टवेयर, इमेज  जैसी चीज डाउनलोड करेगें तो आपके कंप्यूटर में यह सब चीजे पूरी तरह से डाउनलोड नहीं हो पायेगी और डाउनलोड करते समय एरर भी देखने को मिलेगी।

 

कंप्यूटर के अंदर अनावश्यक फोल्डर फाइल्स बनना – जब आपके कंप्यूटर में वायरस होगा तो कंप्यूटर अंदर अपने आप बहुत से अनावश्यक फाइल्स और फोल्डर बन जाते है और यह कंप्यूटर का एक बेकार प्रभाव है क्योंकि इन फाइल्स और फोल्डर की वजह से हम अपने कंप्यूटर लैपटॉप में अपनी महत्वपूर्ण फाइल्स फोल्डर डिलीट कर देते है।

 

कंप्यूटर डेस्कटॉप की स्क्रीन अपने आप चेंज होना – जब कंप्यूटर के अंदर वायरस होता है तो कंप्यूटर के डेस्कटॉप की स्क्रीन अपने आप चेंज हो जाती है यह स्क्रीन आपके कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर और फाइल्स फोल्डर की आइकॉन का भी कलर बदल  देती है। 

 

आशा करते है कि कंप्यूटर में वायरस आने से कंप्यूटर पर क्या प्रभाव पड़ता है  और इससे सम्बंधित जानकारी आपको अच्छी लगी होगी तो आप इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग पर विजिट करते रहिये.